गहलोत से नाराज हुईं सोनिया गांधी, गहलोत की डिजिटल ब्रांड वैल्यू में गिरावट , क्यों मजबूत हुई पायलट की मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी ? पायलट की डिजिटल ब्रांड वैल्यू ने अचानक से भरी उड़ान । जानिए चेकब्राण्ड की रिपोर्ट में ।  अशोक गहलोत जिनकी डिजिटल ब्रांड वैल्यू 16.8 करोड़ थी वो विगत घटनाक्रम में घटकर 15.2 करोड़ हो गयी है वहीं दूसरी और सचिन पायलट की डिजिटल ब्रांड वैल्यू 10.8 करोड़ से बढ़कर 13.5 करोड़ पहुच गयी है ।  चेकब्राण्ड के अनुसार दोनों दिग्गज नेताओं की ब्रांड वैल्यू में उतार चढ़ाव सोशल मीडिया पर मिल रहे समर्थन व सेंटिमेंट का परिणाम है ।  राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को कांग्रेस हाईकमान नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाना चाहता था। इसके लिए गहलोत की जगह किसी दूसरे को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाना था। नए नेता के चुनाव के लिए सोनिया गांधी ने वरिष्ठ नेता अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे को पर्यवेक्षक बनाकर रविवार को राजस्थान भेजा। रविवार शाम कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी थी। इसमें पर्यवेक्षक एक-एक करके सारे विधायकों से मिलने वाले थे। बैठक से पहले अशोक गहलोत खेमे के विधायकों ने बागी रूख अख्तियार कर लिया।  विधायक दल की बैठक की बजाय गहलोत समर्थक विधायक मंत्री शांति धारीवाल के घर पहुंच गए। इसके बाद सभी विधायकों ने स्पीकार से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंप दिया। हालांकि, ये इस्तीफा अभी तक स्पीकर ने मंजूर नहीं किया है। ये विधायक सचिन पायलट या उनके खेमे से किसी को मुख्यमंत्री नहीं बनने देना चाहते हैं। इन विधायकों की संख्या 82 बताई जा रही है।  विधायकों के रुख के चलते माकन और खड़गे को बिना बैठक के ही सोमवार को वापस दिल्ली आना पड़ा। दिल्ली पहुंचकर माकन और खड़गे ने सोनिया गांधी से पूरी स्थिति के बारे में जानकारी दी और गहलोत खेमे के अनुशासनहीनता को लेकर भी नाराजगी प्रकट की।   गहलोत से क्यों नाराज हुईं सोनिया गांधी? बताया जा रहा है कि जब अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोनिया गांधी को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी तो वह नाराज हो गईं। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि सोनिया गांधी ने इस दौरान कहा कि वह अशोक गहलोत जी से ऐसी अपेक्षा नहीं करती थीं। इसके बाद सोनिया गांधी ने माकन और खड़गे से इस पूरे मामले की विस्तृत लिखित रिपोर्ट मांगी।   गहलोत समर्थक विधायकों के इस्तीफे और लगातार बयानबाजी ने जहां अशोक गहलोत के खिलाफ पार्टी में माहौल बना दिया, वहीं सचिन पायलट ने चुप्पी साधे रखी। विश्लेषण कह रहे हैं कि सचिन की चुप्पी से उनका दावा मजबूत हुआ है और इसी वजह से सोशल मीडिया पर उनको भरपूर समर्थन मिल रहा है ।  Report : चेकब्राण्ड सोशल मीडिया से मिले आकड़ो पर आधारित रिपोर्ट

28
Sep

|
Reading Time: 2 seconds
|
by Admin
0
0
80
0

गहलोत से नाराज हुईं सोनिया गांधी, गहलोत की डिजिटल ब्रांड वैल्यू में गिरावट , क्यों मजबूत हुई पायलट की मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी ? जानिए चेकब्राण्ड की रिपोर्ट में ।


गहलोत से नाराज हुईं सोनिया गांधी, गहलोत की डिजिटल ब्रांड वैल्यू में गिरावट , क्यों मजबूत हुई पायलट की मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी ? पायलट की डिजिटल ब्रांड वैल्यू ने अचानक से भरी उड़ान । जानिए चेकब्राण्ड की रिपोर्ट में

अशोक गहलोत जिनकी डिजिटल ब्रांड वैल्यू 16.8 करोड़ थी वो विगत घटनाक्रम में घटकर 15.2 करोड़ हो गयी है वहीं दूसरी और सचिन पायलट की डिजिटल ब्रांड वैल्यू 10.8 करोड़ से बढ़कर 13.5 करोड़ पहुच गयी है ।

चेकब्राण्ड के अनुसार दोनों दिग्गज नेताओं की ब्रांड वैल्यू में उतार चढ़ाव सोशल मीडिया पर मिल रहे समर्थन व सेंटिमेंट का परिणाम है ।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को कांग्रेस हाईकमान नया राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाना चाहता था। इसके लिए गहलोत की जगह किसी दूसरे को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाना था। नए नेता के चुनाव के लिए सोनिया गांधी ने वरिष्ठ नेता अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे को पर्यवेक्षक बनाकर रविवार को राजस्थान भेजा। रविवार शाम कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी थी। इसमें पर्यवेक्षक एक-एक करके सारे विधायकों से मिलने वाले थे। बैठक से पहले अशोक गहलोत खेमे के विधायकों ने बागी रूख अख्तियार कर लिया।

विधायक दल की बैठक की बजाय गहलोत समर्थक विधायक मंत्री शांति धारीवाल के घर पहुंच गए। इसके बाद सभी विधायकों ने स्पीकार से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंप दिया। हालांकि, ये इस्तीफा अभी तक स्पीकर ने मंजूर नहीं किया है। ये विधायक सचिन पायलट या उनके खेमे से किसी को मुख्यमंत्री नहीं बनने देना चाहते हैं। इन विधायकों की संख्या 82 बताई जा रही है।

विधायकों के रुख के चलते माकन और खड़गे को बिना बैठक के ही सोमवार को वापस दिल्ली आना पड़ा। दिल्ली पहुंचकर माकन और खड़गे ने सोनिया गांधी से पूरी स्थिति के बारे में जानकारी दी और गहलोत खेमे के अनुशासनहीनता को लेकर भी नाराजगी प्रकट की। 

गहलोत से क्यों नाराज हुईं सोनिया गांधी?
बताया जा रहा है कि जब अजय माकन और मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोनिया गांधी को पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी तो वह नाराज हो गईं। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि सोनिया गांधी ने इस दौरान कहा कि वह अशोक गहलोत जी से ऐसी अपेक्षा नहीं करती थीं। इसके बाद सोनिया गांधी ने माकन और खड़गे से इस पूरे मामले की विस्तृत लिखित रिपोर्ट मांगी। 

गहलोत समर्थक विधायकों के इस्तीफे और लगातार बयानबाजी ने जहां अशोक गहलोत के खिलाफ पार्टी में माहौल बना दिया, वहीं सचिन पायलट ने चुप्पी साधे रखी। विश्लेषण कह रहे हैं कि सचिन की चुप्पी से उनका दावा मजबूत हुआ है और इसी वजह से सोशल मीडिया पर उनको भरपूर समर्थन मिल रहा है ।

Report : चेकब्राण्ड
सोशल मीडिया से मिले आकड़ो पर आधारित रिपोर्ट

September 28, 2022
0
0
80
0

CATEGORIES

HIGHLIGHTS

Popular Tags

CheckBrand is the only platform to track your digital ranking, digital presence, and social media presence along with detailed analytics reports by which you can measure all the parameters of a digital domain.